Surya Grahan 2023: देश के वो प्रसिद्ध मंदिर जहां सूर्य ग्रहण के दौरान भी होता है पूजन और दर्शन, मंदिरों के खुले रहते है पट

आज साल दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है. खास बात यह कि आज के दिन सर्वपितृ अमावस्या और शनि अमावस्या का भी संयोग बन रहा है. हिंदू धर्म में सूर्य ग्रहण को एक बड़ा दोष माना गया है, जिसके कारण 12 घंटे पहले ही सूतक लग जाता है और इस दौरान देवी-देवताओं की पूजा नहीं होती है. ऐसे में देश के तमाम मंदिर के पट बंद हो जाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि देश में कुछ ऐसे भी मंदिर हैं, जिनके भीतर ग्रहण के दौरान भी पूजा-पाठ जारी रहता है और उनके पट भक्तों के लिए खुले रहते हैं. आइए उन मंदिरों के बारे में विस्तार से जानते हैं जो ग्रहण के दौरान भी खुले रहते हैं.

कालकाजी मंदिर, दिल्ली

सूर्य ग्रहण के दिन जहां देश की राजधानी दिल्ली के सभी मंदिर के पट बंद रहते हैं, वहीं कालकाजी के मंदिर के द्वारा उनके भक्तों के लिए खुले रहते हैं. जिस शक्तिपीठ पर कभी पांडवों को महाभारत युद्ध की जीत का आशीर्वाद मिला था वह सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के दौरान खुला रहता है और इस दौरान भी इस पावन धाम में भक्तों के द्वारा देवी की साधना-आराधना जारी रहती है. हिंदू मान्यता के अनुसार चूंकि माता कालका कालचक्र की स्वामिनी हैं और इन्हीं के जरिए सभी ग्रह नक्षत्र ऊर्जा प्राप्त कर गतिमान होते हैं, ऐसे में इनके पावन धाम पर ग्रहण का कोई असर नहीं होता है. हिंदू मान्यता के अनुसार मां कालका के धाम में आने वाले व्यक्ति पर किसी भी बुरी बला या दोष का असर नहीं होता है.

कल्पेश्वर तीर्थ, उत्तराखंड

सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के दौरान जहां उत्तराखंड में केदारनाथ और बदरीनाथ जैसे सभी पावन धाम सूतक लगते ही पूजा-पाठ के लिए बंद कर दिये जाते हैं, वहीं उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित कल्पेश्वर तीर्थ अकेला एक ऐसा मंदिर जो कि भक्तों के लिए खुला रहता है. पौराणिक मान्यता के अनुसार यह वही पावन स्थान है जहां पर कभी देवों के देव महादेव ने अपनी जटाओं से मां गंगा के वेग को कम किया था और इसी स्थान में समुद्र मंथन के दौरान आपस में बैठक हुई थी. मान्यता है कि इस मंदिर में सूर्य ग्रहण का कोई असर नहीं होता है और इसके कपाट ग्रहण के दौरान भी खुले रहते हैं.

महाकालेश्वर मंदिर, उज्जैन

सूर्य ग्रहण के दौरान भले मध्य प्रदेश के सारे मंदिरों में भक्तों के प्रवेश की मनाही होती है और उसके दरवाजे बंद कर दिये जाते हों लेकिन उज्जैन स्थित महाकाल का द्वार उनके लिए खुला रहता है. काल के भी काल कहलाने वाले महाकाल के बारे में मान्यता है कि उन पर किसी भी प्रकार के दोष या ग्रहण का असर नहीं होता है. ग्रहण वाले दिन भी उनकी पूजा परंपरा के अनुसार होती है. सिर्फ ग्रहण के दौरान शिवलिंग को छूने की मनाही होती है और आप उस दौरान उनका सिर्फ दर्शन ही कर सकते हैं. हाईन्यूज़ !

दिल्ली की तर्ज पर जम्मू-कश्मीर में जल्द होंगे विधानसभा चुनाव, इलेक्शन कमीशन ने दिये संकेत

चुनाव आयोग ने संकेत दिया है कि दिल्ली की तर्ज पर जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा चुनाव होंगे. जम्मू-कश्मीर फिलहाल केंद्र शासित प्रदेश है. विधानसभा चुनावों

Read More »

बाबर आजम का दिमाग सही नहीं है! USA से हार के बाद पाकिस्तानी क्रिकेटर ने की जमकर बेइज्जती

अमेरिका के डलास स्टेडियम में 6 जून को टी20 वर्ल्ड कप का सबसे बड़ा उलटफेर देखने को मिला. अमेरिका ने एक रोमांचक मुकाबले में पाकिस्तान

Read More »

IND vs PAK: पाकिस्तान को पीटने की ऐसी जबरदस्त तैयारी कि पूछिए मत, ऋषभ पंत का ये VIDEO कर देगा हैरान आपको

T20 वर्ल्ड कप 2024 में भारत का अब अगला मैच अपने चिर-प्रतिद्वन्दी पाकिस्तान से है. क्रिकेट की पिच पर कभी भी ये मुकाबला आसान नहीं

Read More »

MPPSC: 11वीं में हो गई थी फेल, लेकिन हिम्मत नहीं हारी ! किसान की बेटी ऐसे बनी SDM, 3 बार पास की परीक्षा

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग ने राज्य सेवा परीक्षा 2021 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया है. इंदौर की प्रियल यादव ने छठवीं रैंक प्राप्त

Read More »

अमेरिका में भी हीटवेव से बुरा हाल, ट्रंप की चुनावी रैली में कई लोग हुए बीमार, तापमान ने सारे रिकॉर्ड रिकॉर्ड

भारत में गर्म हवा के थपड़ों से इन दिनों लोग बुरी तरह से परेशान हैं. पारा कहीं 45 तो कहीं 50 डिग्री तक पहुंच गया.

Read More »

लोगों के सिर कलम-घरों में आग और खाने का संकट…राफा से कम बदतर नहीं भारत के इस पड़ोसी देश के हालात, UN ने की निंदा

संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता ने म्यांमार में हुए आम लोगों के हत्या की कड़ी निंदा की है. उन्होंने म्यांमार की सेना की ओर से रखाइन

Read More »

India में मोदी के फिर PM चुने जाने से खौफ में पाकिस्तान, करने लगा शांति की बात

देश में लगातार तीसरी बार बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन एनडीए की जीत के साथ नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बनने वाले हैं. जिसके बाद

Read More »

‘एनिमल’ ने कमाए 900 करोड़, इधर एक झटके में तृप्ति डिमरी ने खरीद लिया करोड़ों का बंगला

संदीप रेड्डी वांगा की ‘एनिमल’ के चर्चे थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं. ये फिल्म पिछले साल रिलीज हुई थी और कई महीने

Read More »