‘थैंक्यू, माय डियर फ्रेंड…’, गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने का मिला निमंत्रण तो बोले फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों

Emmanuel Macron On India Invitation:HN/ फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने गणतंत्र दिवस (26 जनवरी 2024) समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने को लेकर भारत से मिले निमंत्रण पर पीएम मोदी धन्यवाद कहा है. गणतंत्र दिवस समारोह में अब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की बजाय फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होंगे.

इमैनुएल मैक्रों ने शुक्रवार (22 दिसंबर) को अपने आधिकारिक X हैंडल से एक पोस्ट में कहा, ”आपके निमंत्रण के लिए धन्यवाद, मेरे प्रिय मित्र भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आपके गणतंत्र दिवस पर मैं आपके साथ जश्न मनाने के लिए रहूंगा!” मैक्रों इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले छठे फ्रांसीसी नेता होंगे.

फ्रांस के राष्ट्रीय दिवस पर गेस्ट ऑफ ऑनर थे पीएम मोदी

हाल के वर्षों में भारत और फ्रांस के बीच संबंधों में प्रगति हुई है. इसी साल जुलाई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ्रांस के राष्ट्रीय दिवस समारोह के दौरान बैस्टिल दिवस परेड में गेस्ट ऑफ ऑनर के रूप में हिस्सा लिया था.

लगभग उसी दौरान रक्षा मंत्रालय ने फ्रांस से 26 राफेल (समुद्री) जेट के अधिग्रहण को मंजूरी दी थी, जिसका उद्देश्य स्वदेश निर्मित विमान वाहक आईएनएस विक्रांत पर तैनाती करना है. फ्रांस ने जेट खरीद के लिए भारत के प्रारंभिक टेंडर का जवाब दिया है और दोनों देश समुद्री क्षेत्र, विशेष रूप से हिंद महासागर क्षेत्र में सहयोग बढ़ा रहे हैं.

जो बाइडेन क्यों नहीं आ रहे हैं?

बाइडेन ने कथित तौर पर मुख्य अतिथि बनने के लिए भारत का निमंत्रण अस्वीकार कर दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि बाइडेन ने अपने व्यस्त कार्यक्रमों की वजह से ऐसा किया है. माना जा रहा है कि उन्हें स्टेट ऑफ द यूनियन को संबोधित करना है और अगले साल होने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव के लिए तैयारी करनी है, इसके अलावा इजरायल और हमास के युद्ध पर वाशिंगटन का फोकस है, इसलिए बाइडेन को गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में नहीं आ पाएंगे.

2013 से 2023 तक कौन-कौन रहा गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि?

बता दें कि इस साल गणतंत्र दिवस (26 जनवरी 2023) समारोह में मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे. 2021 और 2022 में कोरोनाकाल के कारण गणतंत्र दिवस समारोह में कोई मुख्य अतिथि नहीं था. उससे पहले 26 जनवरी 2020 में तत्कालीन ब्राजीलियाई राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो मुख्य अतिथि थे.

2019 में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा, 2018 में सभी 10 आसियान देशों के नेता, 2017 में अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान, 2016 में तत्कालीन फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद, 2015 में तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, 2014 में तत्कालीन जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे और 2013 में भूटान के राजा जिग्मे खेसर नामग्याल वांगचुक मुख्य अतिथी के रूप में समारोह में शामिल हुए थे. हाईन्यूज़ !

News: मथुरा-काशी में मंदिर तोड़े और बनाई गईं मस्जिदें… फिर सर्वे और कोर्ट की क्या जरूरत- इरफान हबीब

ज्ञानवापी मामले में कोर्ट के फैसले पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवं प्रख्यात इतिहासकार इरफान हबीब का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि

Read More »

MP News: जीतू पटवारी ने CM मोहन यादव सरकार को घेरा, शिक्षा व्यवस्था को लेकर पूछा यह सवाल

Jitu Patwari To CM Mohan Yadav:HN/ लोकसभा चुनाव से पहले पीसीसी चीफ जीतू पटवारी काफि एक्टिव नजर आ रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने

Read More »

MP News: सीएम मोहन यादव बोले- ‘सिंहस्थ मेला 2028 का आयोजन ऐसा होगा दुनिया देखती रह जाएगी’

Ujjain News:HN/ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने शिप्रा नदी को सतत प्रवाहमान बनाए रखने के लिए एक अथॉरिटी बनाने का ऐलान किया है. इस

Read More »

Lok Sabha Elections 2024: क्या इस बार कमलनाथ का गढ़ भेद पाएगी BJP? कैलाश विजयवर्गीय ने छिंदवाड़ा के लिए दिया इस नेता का नाम

Madhya Pradesh Politics News:HN/ क्या मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) कमलनाथ (Kamal Nath) के गढ़ छिंदवाड़ा (Chhindwara) से लोकसभा का

Read More »

चौधरी परिवार फिर से चौथी बार बीजेपी के करीब, 27 साल में RLD का होगा 10वां गठबंधन

त्तर प्रदेश की सियासत में आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी के सामने अपने बाप-दादा की सियासी विरासत को बचाने की चुनौती है. ऐसे में जयंत चौधरी

Read More »

वाह रे बिहार का शिक्षा विभाग! 12 साल से शेर को बाघ पढ़ा रहे थे स्कूल में, ऐसे हुआ खुलासा

बिहार में कुछ न कुछ अजीब मामले सामने आते रहते हैं. कभी यहां से ट्रेन का इंजन तो कभी पुल गायब हो जाता है. ताजा

Read More »

ब्रज में इस पेड़ को राधा रानी ने आखिर क्यों दिया श्राप? आज तक भी नहीं पकते हैं जिसके फल

वृंदावन में हर साल लाखों की संख्या में भक्त भगवान कृष्ण के मंदिरों के दर्शन के लिए दूर-दूर से आते हैं. भगवान श्रीकृष्ण के हर

Read More »