‘देश का संविधान कितना भी खराब हो, उसे चलाने वाले अच्छे होने चाहिए’, अमेरिका में ऐसा क्यों बोले CJI डीवाई चंद्रचूड़

DY Chandrachud In America:HN/ चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि दुर्भाग्य से कानूनी प्रणाली ने अकसर वंचित सामाजिक समूहों के खिलाफ ऐतिहासिक गलतियों को कायम रखने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है और इससे हुआ नुकसान पीढ़ियों तक बना रह सकता है. दरअसल वह ‘डॉ. बी आर आंबेडकर की अधूरी विरासत’ विषय पर रविवार (22 अक्टूबर) को मैसाचुसेट्स के वाल्थम स्थित ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी में आयोजित छठे अंतररराष्ट्रीय सम्मेलन को मुख्य वक्ता के तौर पर संबोधित कर रहे थे.

प्रधान न्यायाधीश का संबोधन ‘रिफॉर्मेशन बियोंड रिप्रजेंटेशन : द सोशल लाइफ ऑफ द कंस्टिट्यूशन इन रेमेडिंग हिस्टॉरिकल रांग्स’ विषय पर था. न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि पूरे इतिहास में हाशिए पर रहे सामाजिक समूहों को भयानक एवं गंभीर गलतियों का सामना करना पड़ा है, जो अकसर पूर्वाग्रह और भेदभाव जैसी चीजों से उत्पन्न होता है. उन्होंने कहा कि भारत में जातिगत असमानताएं पिछड़ी जातियों के लाखों लोगों को प्रभावित कर रही हैं.

‘भारत में गुलामी को बैध कर दिया गया था’

प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि इतिहास आदिवासी समुदायों, महिलाओं, एलजीबीटीक्यूआई समुदाय के लोगों और अन्य अल्पसंख्यक समुदायों के प्रणालीगत उत्पीड़न के उदाहरणों से भरा पड़ा है. उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्य से, कानूनी प्रणाली ने अकसर हाशिए पर मौजूद सामाजिक समूहों के खिलाफ ऐतिहासिक गलतियों को कायम रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. अमेरिका की तरह, भारत के कुछ हिस्सों में भी गुलामी को वैध कर दिया गया था.’’

प्रधान न्यायाधीश ने अपने संबोधन में कहा कि कुछ समुदायों के खिलाफ व्यवस्थित रूप से अत्याचार करने और उन्हें हाशिए पर धकेलने के लिए कानूनी ढांचे को अकसर हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिका और भारत (दोनों देशों) में, उत्पीड़ित समुदायों को लंबे समय तक मतदान के अधिकार से वंचित रहना पड़ा.’’

‘अन्याय की विरासत सी बन गई’

न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि इस तरह एक संस्था के रूप में कानून का उपयोग मौजूदा सत्ता संरचनाओं को बनाए रखने और भेदभाव को संस्थागत बनाने के लिए किया गया, जिससे अन्याय की एक स्थायी विरासत बनी जो इन समूहों और समुदायों के लोगों के जीवन को प्रभावित कर रही है. उन्होंने कहा कि ऐसे कानूनों को निरस्त किए जाने के बाद भी इनसे हुआ नुकसान पीढ़ियों तक बना रह सकता है, जो वंचित समूहों के खिलाफ की गईं ऐतिहासिक गलतियों और कानून के बीच जटिल एवं स्थायी संबंध को रेखांकित करता है.

प्रधान न्यायाधीश ने कहा, ‘‘ये ऐतिहासिक गलतियां एक ऐसी सामाजिक व्यवस्था बनाकर अन्याय को बढ़ावा देती हैं, जहां हाशिए पर रहने वाले समुदायों को अपने उत्पीड़न से ऊपर उठने की अनुमति नहीं है.’’ न्यायमूर्ति चंद्रचूड ने कहा, ‘‘इससे समाज की एक प्रकार की स्वयंभू और श्रेणीबद्ध संरचना का निर्माण होता है, जिससे कुछ समूहों के प्रति अन्याय सामान्य हो जाता है.’’

न्यायाधीश ने कहा कि इसी तरह जाति-आधारित भेदभाव पर रोक लगाने वाले कानून के बावजूद संरक्षित समुदायों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं बढ़ रही हैं. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि डॉ. अंबेडकर का संविधानवाद का विचार गहरी जड़ें जमा चुकी जातिगत प्रणाली को खत्म कर, हाशिए पर रहने वाले समूहों के लिए सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक सशक्तीकरण को बढ़ावा देकर भारतीय समाज को बदलने में सहायक हुआ है. हाईन्यूज़ !

दिल्ली की तर्ज पर जम्मू-कश्मीर में जल्द होंगे विधानसभा चुनाव, इलेक्शन कमीशन ने दिये संकेत

चुनाव आयोग ने संकेत दिया है कि दिल्ली की तर्ज पर जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा चुनाव होंगे. जम्मू-कश्मीर फिलहाल केंद्र शासित प्रदेश है. विधानसभा चुनावों

Read More »

बाबर आजम का दिमाग सही नहीं है! USA से हार के बाद पाकिस्तानी क्रिकेटर ने की जमकर बेइज्जती

अमेरिका के डलास स्टेडियम में 6 जून को टी20 वर्ल्ड कप का सबसे बड़ा उलटफेर देखने को मिला. अमेरिका ने एक रोमांचक मुकाबले में पाकिस्तान

Read More »

IND vs PAK: पाकिस्तान को पीटने की ऐसी जबरदस्त तैयारी कि पूछिए मत, ऋषभ पंत का ये VIDEO कर देगा हैरान आपको

T20 वर्ल्ड कप 2024 में भारत का अब अगला मैच अपने चिर-प्रतिद्वन्दी पाकिस्तान से है. क्रिकेट की पिच पर कभी भी ये मुकाबला आसान नहीं

Read More »

MPPSC: 11वीं में हो गई थी फेल, लेकिन हिम्मत नहीं हारी ! किसान की बेटी ऐसे बनी SDM, 3 बार पास की परीक्षा

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग ने राज्य सेवा परीक्षा 2021 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया है. इंदौर की प्रियल यादव ने छठवीं रैंक प्राप्त

Read More »

अमेरिका में भी हीटवेव से बुरा हाल, ट्रंप की चुनावी रैली में कई लोग हुए बीमार, तापमान ने सारे रिकॉर्ड रिकॉर्ड

भारत में गर्म हवा के थपड़ों से इन दिनों लोग बुरी तरह से परेशान हैं. पारा कहीं 45 तो कहीं 50 डिग्री तक पहुंच गया.

Read More »

लोगों के सिर कलम-घरों में आग और खाने का संकट…राफा से कम बदतर नहीं भारत के इस पड़ोसी देश के हालात, UN ने की निंदा

संयुक्त राष्ट्र के प्रवक्ता ने म्यांमार में हुए आम लोगों के हत्या की कड़ी निंदा की है. उन्होंने म्यांमार की सेना की ओर से रखाइन

Read More »

India में मोदी के फिर PM चुने जाने से खौफ में पाकिस्तान, करने लगा शांति की बात

देश में लगातार तीसरी बार बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन एनडीए की जीत के साथ नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बनने वाले हैं. जिसके बाद

Read More »

‘एनिमल’ ने कमाए 900 करोड़, इधर एक झटके में तृप्ति डिमरी ने खरीद लिया करोड़ों का बंगला

संदीप रेड्डी वांगा की ‘एनिमल’ के चर्चे थमने का नाम ही नहीं ले रहे हैं. ये फिल्म पिछले साल रिलीज हुई थी और कई महीने

Read More »