अमेरिका में चुनाव बन सकती है बाइडेन-नेतन्याहू की दोस्ती में दरार की बड़ी वजह, किन मुद्दों पर आमने-सामने होंगे दोनों नेता, जानिए

Israel Hamas War:HN/ इजरायल-हमास जंग में अब तक दोनों पक्षों से हजारों लोग मारे जा चुके हैं. कुछ दिनों के लिए सीजफायर हुई तो दुनिया को लगा मानो अब जंग थम जाएगा, लेकिन सीजफायर समझौता टूट गया और गाजा की हालत बद से बदतर हो गई. सीजफायर को फिर से लागू करने के लिए संयुक्त राष्ट्र में एक प्रस्ताव भी लाया गया लेकिन इस पर अमेरिका ने वीटो लगा दिया. अमेरिका के वीटो लगाते ही जंग खत्म होने की एक और गुंजाइश पर विराम लग गया. लेकिन ये युद्ध कब तक चलेगा और अमेरिका इजरायल का साथ कब तक देगा?

इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इस बारे में कोई सीधे-सीधे जवाब तो नहीं दिया है लेकिन इजरायल ने कई मंचों से कहा है कि जब तक सभी बंधकों को रिहा नहीं किया जाएगा तब तक जंग जारी रहेगा. लेकिन हमास को गाजा से बाहर कर दिए जाने की स्थिति में गाजा का नियंत्रण किसके पास होगा इसे लेकर अमेरिका और इजरायल में मतभेद हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कई बार कहा है कि जंग के बाद गाजा की बागडोर फिलिस्तीनी प्राधिकरण को सौंप दी जानी चाहिए. लेकिन नेतन्याहू इसका विरोध करते रहे हैं. नेतन्याहू का कहना है कि फिलिस्तीनी प्राधिकरण भी आंतकवाद को बढ़ावा देती है उनके जिम्मे गाजा को नहीं छोड़ा जा सकता है.

अमेरिका और इजरायल या फिर ये कहें कि काफी गहरे और पुराने दोस्त जो बाइडेन और बेंजामिन नेतन्याहू गाजा को लेकर जो सोच रखते हैं वह एक दूसरे से काफी जुदा है.

अमेरिका के पांच सिद्धांत

इजरायल-हमास युद्ध के बीच अमेरिका का दबदबा मध्य-पूर्व के देशों में कम हुआ है. बाइडेन भी अब इस मुद्दे पर पहले की तरह मुखर नहीं हैं. पिछले सप्ताह बाइडेन की जगह कमला हैरिस ने दुबई में एक भाषण भेजा. इस भाषण को अमेरिकी रेड लाइन बताया जा रहा है. यानी जंग को लेकर ‘अमेरिका की ओर से खींची गई लक्ष्मण रेखा’. भाषण में कमला हैरिस ने कहा, “इजरायल फिलिस्तीन इलाके में बाइडेन एक राजनीतिक समाधान चाहते हैं ताकि संघर्ष को खत्म किया जा सके.”

इजरायल-हमास जंग पर अमेरिका के पांच सिद्धांतों को बताते हुए कमला हैरिस ने कहा, दोबारा कोई कब्जा नहीं होगा, लोगों का जबरन विस्थापन नहीं होगा. गाजा में किसी चीज की कोई कटौती नहीं होनी चाहिए और इसका इस्तेमाल आतंकवाद के मंच के तौर पर नहीं होना चाहिए. इसके अलावा इलाके की घेराबंदी नहीं होनी चाहिए.

नेतन्याहू से अमेरिका का हुआ मोहभंग?

अमेरिका में चुनाव आने वाले हैं और इस चुनाव में बाइडेन को मुसलमानों का समर्थन लेना होगा. अमेरिका ने कई मर्तबा इजरायल को नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चेतावनी दी है. लेकिन हालातों को देखकर लगता है कि इजरायल अमेरिकी सलाह को नजरअंदाज कर रहा है. कमला हैरिस ने कहा, “हम फिलिस्तीनी प्राधिकरण को वेस्ट बैंक और गाजा के शासक के तौर पर देखना चाहते हैं. ऐसा इसलिए भी क्योंकि वह फिलिस्तीनी लोगों के असली प्रतिनिधि के तौर पर देखे जाते हैं.” हाईन्यूज़ !

News: मथुरा-काशी में मंदिर तोड़े और बनाई गईं मस्जिदें… फिर सर्वे और कोर्ट की क्या जरूरत- इरफान हबीब

ज्ञानवापी मामले में कोर्ट के फैसले पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवं प्रख्यात इतिहासकार इरफान हबीब का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि

Read More »

MP News: जीतू पटवारी ने CM मोहन यादव सरकार को घेरा, शिक्षा व्यवस्था को लेकर पूछा यह सवाल

Jitu Patwari To CM Mohan Yadav:HN/ लोकसभा चुनाव से पहले पीसीसी चीफ जीतू पटवारी काफि एक्टिव नजर आ रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने

Read More »

MP News: सीएम मोहन यादव बोले- ‘सिंहस्थ मेला 2028 का आयोजन ऐसा होगा दुनिया देखती रह जाएगी’

Ujjain News:HN/ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने शिप्रा नदी को सतत प्रवाहमान बनाए रखने के लिए एक अथॉरिटी बनाने का ऐलान किया है. इस

Read More »

Lok Sabha Elections 2024: क्या इस बार कमलनाथ का गढ़ भेद पाएगी BJP? कैलाश विजयवर्गीय ने छिंदवाड़ा के लिए दिया इस नेता का नाम

Madhya Pradesh Politics News:HN/ क्या मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) कमलनाथ (Kamal Nath) के गढ़ छिंदवाड़ा (Chhindwara) से लोकसभा का

Read More »

चौधरी परिवार फिर से चौथी बार बीजेपी के करीब, 27 साल में RLD का होगा 10वां गठबंधन

त्तर प्रदेश की सियासत में आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी के सामने अपने बाप-दादा की सियासी विरासत को बचाने की चुनौती है. ऐसे में जयंत चौधरी

Read More »

वाह रे बिहार का शिक्षा विभाग! 12 साल से शेर को बाघ पढ़ा रहे थे स्कूल में, ऐसे हुआ खुलासा

बिहार में कुछ न कुछ अजीब मामले सामने आते रहते हैं. कभी यहां से ट्रेन का इंजन तो कभी पुल गायब हो जाता है. ताजा

Read More »

ब्रज में इस पेड़ को राधा रानी ने आखिर क्यों दिया श्राप? आज तक भी नहीं पकते हैं जिसके फल

वृंदावन में हर साल लाखों की संख्या में भक्त भगवान कृष्ण के मंदिरों के दर्शन के लिए दूर-दूर से आते हैं. भगवान श्रीकृष्ण के हर

Read More »