सर्दी में घुटनों में दर्द नॉर्मल नहीं होता है… इलाज नहीं करवाया तो खराब हो सकती है रीढ़ की हड्डी तक

गठिया का सबसे खतरनाक असर घुटनों पर पड़ता है. यह एक दर्दनाक बीमारी है जो एक बार लग जाए तो बढ़ती उम्र के साथ जिंदगी को बदतर कर देती है. ऑस्टियोआर्थराइटिस से आम प्रकार में से एक है. इस बीमारी में दोनों घुटनों में तेज दर्द, सूजन और कठोरता हो सकता है. ऐसे कई लक्षण है जिसका इलाज शुरुआत में ही नहीं किया गया तो यह बेहद खतरनाक साबित हो सकता है.

घुटने का गठिया क्या है?

गठिया एक ऐसी बीमारी है जो आपके जोड़ों में दर्द, सूजन और कठोरता का कारण बनती है.यह आपके शरीर के सबसे बड़े और मजबूत जोड़ों पर खतरनाक असर डालती है. घुटनों में यह आम बात है. घुटने का गठिया एक गंभीर और खतरनाक बीमारी है. हालांकि घुटने के गठिया का कोई इलाज नहीं है, लेकिन ऐसे कुछ कदम हैं जो आप उठा सकते हैं जो आपके लक्षणों को कम कर सकते हैं और संभावित रूप से आपके रोग की प्रगति को धीमा कर सकते हैं. घुटनों की हड्डी में एक गड्डी या लिक्विड होती है जिसे सिनोवियल झिल्ली कही जाती है. एक समय के बाद यह इतना ज्यादा खतरनाक हो जाता है कि इसका सीधा असर रीढ़ की हड्डी पर पड़ता है.

घुटने के गठिया के प्रकार क्या हैं?

गठिया के लगभग 100 प्रकार होते हैं. सबसे आम प्रकार जो आपके घुटनों को प्रभावित कर सकते हैं उनमें शामिल हैं.

इस सूची में ऑस्टियोआर्थराइटिस सबसे आम प्रकार है. ऑस्टियोआर्थराइटिस आपके उपास्थि को नष्ट कर देता है. आपके घुटने के जोड़ की तीन हड्डियों के बीच की गद्दी. उस सुरक्षा के बिना, आपकी हड्डिया एक-दूसरे से रगड़ती हैं. इससे दर्द, कठोरता और सीमित गति हो सकती है. इससे हड्डी के स्पर्स का विकास भी हो सकता है. समय बीतने के साथ ऑस्टियोआर्थराइटिस बदतर होता जाता है.

गठिया ऑस्टियोआर्थराइटिस का एक प्रकार है. आपके घुटने पर आघात के बाद उपास्थि पतली होने लगती है (जैसे कार दुर्घटना या संपर्क खेल से चोट). आपकी हड्डियां आपस में रगड़ती हैं, और इससे ऑस्टियोआर्थराइटिस जैसे ही लक्षण होते हैं. दर्द, कठोरता और सीमित गति.

रुमेटीइड गठिया एक ऑटोइम्यून बीमारी है. एक स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली सूजन (आंतरिक या बाहरी) का कारण बनती है जब यह आपको संक्रमण, चोट, विष या किसी अन्य विदेशी आक्रमणकारी से बचाने की कोशिश कर रही होती है. भड़काऊ प्रतिक्रिया एक तरीका है जिससे आपका शरीर अपनी रक्षा करता है. यदि आपको रुमेटीइड गठिया है, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली अस्वस्थ है जो आपके जोड़ों में सूजन पैदा करती है. भले ही कोई विदेशी आक्रमणकारी न हो. सूजन के कारण श्लेष झिल्ली में दर्द, कठोरता और सूजन हो जाती है, जो आपकी उपास्थि को भी नष्ट कर सकती है.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें. हाईन्यूज़ !

News: मथुरा-काशी में मंदिर तोड़े और बनाई गईं मस्जिदें… फिर सर्वे और कोर्ट की क्या जरूरत- इरफान हबीब

ज्ञानवापी मामले में कोर्ट के फैसले पर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एवं प्रख्यात इतिहासकार इरफान हबीब का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा कि

Read More »

MP News: जीतू पटवारी ने CM मोहन यादव सरकार को घेरा, शिक्षा व्यवस्था को लेकर पूछा यह सवाल

Jitu Patwari To CM Mohan Yadav:HN/ लोकसभा चुनाव से पहले पीसीसी चीफ जीतू पटवारी काफि एक्टिव नजर आ रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने

Read More »

MP News: सीएम मोहन यादव बोले- ‘सिंहस्थ मेला 2028 का आयोजन ऐसा होगा दुनिया देखती रह जाएगी’

Ujjain News:HN/ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने शिप्रा नदी को सतत प्रवाहमान बनाए रखने के लिए एक अथॉरिटी बनाने का ऐलान किया है. इस

Read More »

Lok Sabha Elections 2024: क्या इस बार कमलनाथ का गढ़ भेद पाएगी BJP? कैलाश विजयवर्गीय ने छिंदवाड़ा के लिए दिया इस नेता का नाम

Madhya Pradesh Politics News:HN/ क्या मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) कमलनाथ (Kamal Nath) के गढ़ छिंदवाड़ा (Chhindwara) से लोकसभा का

Read More »

चौधरी परिवार फिर से चौथी बार बीजेपी के करीब, 27 साल में RLD का होगा 10वां गठबंधन

त्तर प्रदेश की सियासत में आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी के सामने अपने बाप-दादा की सियासी विरासत को बचाने की चुनौती है. ऐसे में जयंत चौधरी

Read More »

वाह रे बिहार का शिक्षा विभाग! 12 साल से शेर को बाघ पढ़ा रहे थे स्कूल में, ऐसे हुआ खुलासा

बिहार में कुछ न कुछ अजीब मामले सामने आते रहते हैं. कभी यहां से ट्रेन का इंजन तो कभी पुल गायब हो जाता है. ताजा

Read More »

ब्रज में इस पेड़ को राधा रानी ने आखिर क्यों दिया श्राप? आज तक भी नहीं पकते हैं जिसके फल

वृंदावन में हर साल लाखों की संख्या में भक्त भगवान कृष्ण के मंदिरों के दर्शन के लिए दूर-दूर से आते हैं. भगवान श्रीकृष्ण के हर

Read More »