MP-राजस्थान समेत 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का हुआ ऐलान, जानें पिछली बार कौन जीता, कौन हारा

साल के अंत में पांच राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनावों की तारीखों का सोमवार (9 अक्टूबर, 20223) को ऐलान कर दिया है. 7 से 30 नवंबर के बीच वोटिंग होगी और 3 दिसंबर को एक ही दिन पांचों राज्यों के नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे. विधानसभा चुनावों को लेकर सभी राजनीति दल जोर-शोर से तैयारियों में जुटे हैं.

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम की विधानसभाओं का पांच साल का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है इसलिए अब यहां चुनाव होने हैं. साल 2018 में पांचों राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए थे. पिछले चुनाव में तीन राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी, जबकि एक राज्य में तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) (अब भारत राष्ट्र समिति, BRS) और एक राज्य में मिजो नेशनल फ्रेंट (MNF) ने सरकार बनाई थी. इस बार के क्या समीकरण हैं और कहां किसकी सरकार बनने की उम्मीद है, इसे समझने के लिए पिछले चुनावों के आंकड़ों पर नजर डाल लेते हैं-

मध्य प्रदेश
2018 का मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव कई माइनों में दिलचस्प रहा था. कांग्रेस ने लंबे समय के बाद सत्ता में वापसी की थी तो वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सत्ता छोड़नी पड़ी. पिछले चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर थी. 28 नवंबर, 2018 को वोटिंग हुई थी और 11 दिसंबर, 2018 को नतीजे आए. नतीजों में कांग्रेस को 114 और बीजेपी को 109 सीटों पर जीत मिली थी. हालांकि, दोनों ही पार्टियां बहुमत के जादुई आंकड़े 116 को नहीं पा सकी थीं. इस स्थिति में बसपा, सपा और अन्य दलों ने समर्थन दिया और कांग्रेस की सराकर में कमलनाथ मुख्यमंत्री बने. हालांकि, उनकी सरकार सिर्फ 15 महीने ही साल ही चल सकी. ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ 25 विधायकों ने बगावत कर दी और कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी का दामन थाम लिया. वहीं, जौरा, आगर और ब्यावरा  पर तीन विधायकों के निधन के बाद तीन सीटें और खाली हो गईं. नवंबर, 2020 को 28 सीटों पर उपचुनाव हुआ. 18 पर बीजेपी व 9 पर कांग्रेस उम्मीदवारों को जीत मिली और शिवराज सिंह चौहान एक बार फिर मुख्यमंत्री बने. इस वक्त मध्य प्रदेश की 230 विधानसभा सीटों में से 127 बीजेपी, 96 कांग्रेस, निर्दलीय 4, बसपा दो और सपा के पास एक सीट है.

छत्तीसगढ़
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव की 90 में से 68 सीटें जीतकर कांग्रेस ने सरकार बनाई थी. यहां 12 नवंबर और 20 नवंबर, 2018 को दो चरणों में वोटिंग हुई थी और 11 दिसंबर को चुनाव के नतीजे घोषित किए गए. इस चुनाव में बीजेपी को यहां करारी शिकस्त मिली थी और 15 साल बाद सत्ता से अलविदा करना पड़ा. कांग्रेस ने 90 में से 68 सीटें जीतीं, जबकि बीजेपी सिर्फ 15 सीटें ही जीत सकी थी और लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहे रमन सिंह को राज्य की सत्ता छोड़नी पड़ी. रमन सिंह के बाद भूपेंद्र सिंह बघेल छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बने.

राजस्थान
मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के बाद राजस्थान तीसरा राज्य है, जहां पिछले चुनाव में बीजेपी को करारी शिकस्त मिली और सत्ता से अलविदा कहना पड़ा. 200 विधानसभा सीटों वाले राजस्थान में 7 दिसंबर को वोटिंग हुई थी और 11 दिसंबर को नतीजे जारी किए गए. नतीजों में कांग्रेस ने 99, बीजेपी ने 73, बसपा ने 6 और अन्य दलों को 2 सीटों पर जीत मिली थी. सबसे ज्यादा सीटें जीतने के बावजूद कांग्रेस सरकार बनाने के लिए जरूरी 101 के जादुई आंकड़े को हासिल करने में सफल नहीं हो सकी थी. हालांकि, बाद में निर्दलीय विधायकों और अन्य दलों के साथ से कांग्रेस की सरकार बनी और अशोक गहलोत मुख्यमंत्री बने. नतीजे आने के बाद मुख्यमंत्री को लेकर पार्टी हाईकमान के बीच गहन चिंतन हुआ और अशोक गहलोत का नाम फाइनल किया गया. राजस्थान में हर पांच साल में सत्ता परिवर्तन का पैटर्न देखा गया है. आगामी चुनाव में भी यह रिवाज कायम रहता है या नहीं? यह देखना दिलचस्प होगा.

तेलंगाना
2018 के विधानसभा चुनाव में के. चंद्रशेखर राव (KCR) की टीआरएस (अब बीआरएस) ने शानदार जीत के साथ सत्ता में वापसी की थी. राज्य की 119 विधानसभा सीटों में से 88 पर बीआरएस को जीत मिली थी.  पिछले चुनाव में तेलंगाना में 73 फीसदी मतदान हुआ था. साल 1985 से केसीआर कोई चुनाव नहीं हारे हैं और इस चुनाव में भी उनका यह रिकॉर्ड बरकरार रहा.

मिजोरम
पिछले चुनाव में मिजो नेशनल फ्रंट (MNF) ने मिजोरम की 40 विधानसभा सीटों में से 26 सीटों पर जीत हासिल की और 10 साल से सत्ता में काबिज कांग्रेस को उखाड़ फेंका. पांच बार मुख्यमंत्री रहे लाल थन्हवला सेरछिप और चंफई दक्षिण से चुनाव लड़े, लेकिन दोनों ही जगह हार गए. वहीं, बीजेपी ने एक सीट जीतकर अपना खाता खोला. बीजेपी के बुद्ध धन चकमा ने तुइचावंग से चुनाव जीता था. हाईन्यूज़ !

पहले हाथ मिलाया फिर गले मिले, संसद की सीढ़ियों पर दिखी कंगना रनौत और चिराग पासवान की दोस्ती

एक्ट्रेस और भाजपा सांसद कंगना रनौत हमेशा चर्चा में छाई रहती हैं. फिर चाहे वो विवाद को लेकर हो या अपने किसी बयान को लेकर.

Read More »

पहले की दो शादियां, उसके बाद तीसरी से चलाया चक्कर, जब मिला धोखा तो गर्लफ्रेंड को घोंपा 11 बार चाकू

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले में एक शादीशुदा सनकी आशिक ने अपनी ही गर्लफ्रेंड की दिन दहाड़े चाकू गोदकर हत्या कर दी. उसने सरेराह युवकी को

Read More »

सोनाक्षी सिन्हा-जहीर इकबाल की दो साल पहले ही हो गई थी सगाई? यूजर्स से ढूंढ निकाली एक्ट्रेस की पुरानी तस्वीर

Sonakshi Sinha-Zaheer Iqbal Engagement:HN/ सोनाक्षी सिन्हा और जहीर इकबाल शादी कर चुके हैं. इस कपल ने सात साल के रिलेशनशिप के बाद अपने रिश्ते को आगे

Read More »

Sengol Controversy: सपा सांसद ने सेंगोल को बताया ‘राजशाही’ का प्रतीक, चिराग पासवान ने किया पलटवार, कहा- ‘हर चीज से विपक्ष को दिक्कत क्यों’

Chirag Paswan on Sengol Controversy:HN/ समाजवादी पार्टी के सांसद आरके चौधरी के सेंगोल पर दिए बयान को लेकर हंगामा मचा है. उन्होंने कहा कि सेंगोल राजशाही

Read More »

President Speech: ‘इमरजेंसी थी संविधान पर सबसे बड़ा प्रहार’, बोलीं राष्ट्रपति- लोकतंत्र में तब डाली गई दरार, उस समय मच गया था हाहाकार

President Speech:HN/ राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने इमरजेंसी (आपातकाल) को भारत के संविधान पर सबसे बड़ा प्रहार बताया है. उन्होंने कहा कि साल 1975 में जब आपातकाल

Read More »

‘जब तक PoK नहीं मिल जाता तब तक…’, वैष्णो देवी मंदिर दर्शन करने पहुंचे जगद्गुरु रामभद्राचार्य ने दिया बड़ा बयान

श्री राम जन्मभूमि (Shree Ramajanmabhoomi) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले जगद्गुरु रामभद्राचार्य (Jagadguru Rambhadracharya) ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) को लेकर बड़ा बयान

Read More »

Parliament Session 2024: ‘मुझे खुशी है कि स्पीकर ने…’, ओम बिरला ने किया इमरजेंसी का जिक्र तो पीएम नरेन्द्र मोदी ने विपक्ष को ऐसे दिखाया आईना

Om Birla on Emergency:HN/ ओम बिरला को 18वीं लोकसभा के लिए स्पीकर चुन लिया गया है. स्पीकर की जिम्मेदारी संभालते ही उन्होंने इमरजेंसी का जिक्र किया.

Read More »

Leader of Opposition: लोकसभा में कांग्रेस की बड़ी पहली जीत! 10 साल से खाली पड़े इस ओहदे पर बैठेंगे राहुल गांधी

Leader Of Opposition:HN/ ओम बिरला बुधवार (26 जून) को लगातार दूसरी बार लोकसभा के अध्यक्ष चुने गए हैं. इसके बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने

Read More »