केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बोले, फारुख पाक में ऐसा बोलते तो उनकी जीभ काट ली जाती

भोपाल।अपनी चिर परिचित शैली के लिए पहचाने जाने वाले केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम राज्यमंत्री गिरिराज सिंह ने कहा है कि फारुख अब्दुल्ला जैसे लोग खाते यहां की हैं और बात पाकिस्तान की करते हैं। यदि वे पाकिस्तान में यह बोलते तो उनकी जीभ काट ली जाती। देश में नेहरू की जगह सरदार पटेल भारत के प्रधानमंत्री होते तो पाक अधिकृत कश्मीर भारत में होता। वह फारुख अब्दुल्ला के उस बयान पर बोल रहे थे, जो उन्होंने कश्मीर को लेकर दिया था।

 केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि भाजपा में उन्हें कोई पप्पू नहीं कहता, ये तो कांग्रेसी ही कहते हैं। उन्हें विदेश में बेरोजगारी की बात नहीं करना चाहिए। वे जानकारी लेंगे तो पता चलेगा कि रोजगार पाने वाले युवा भी हैं। गिरिराज सिंह गुरुवार को सरोकार संस्था के कार्यक्रम में बोल रहे थे। इससे पहले संस्था के अध्यक्ष व भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राहुल कोठारी ने भी सिंह के बारे में कहा कि इनके कारण मुद्दे बनते हैं, जिन पर चैनल चर्चा करते हैं। वे गरजते नहीं शब्दों से बरसते भी हैं।

बदल रही है देश की डेमोग्राफी

केंद्रीय मंत्री सिंह ने कहा कि देश में आजादी के बाद से अब तक हिंदुओं की संख्या 90 फीसदी से घटकर 72 पर आ गई है और मुस्लिमों की 8 से बढ़कर 22 हो गई है। अब तक देश के 54 जिले ऐसे हैं, जहां जनसंख्या का स्तर बदल गया है। हिंदू घट गए। यह राष्ट्रवाद के लिए खतरा है। देश की आबादी जिस तरह से बढ़ रही है, उससे सभी वर्गों के लिए यह जरूरी है कि जनसंख्या नियंत्रण कानून बने।

सिंह ने ‘राष्ट्रवाद के संकल्प से नव भारत की सिद्धि’ विषय पर करीब 45 मिनट के अपने भाषण में यह भी कहा कि मल्लापुरम (दक्षिण) में 1300 क्रिश्चियन बेटियां लव जेहाद की वजह से गायब हैं। मैं जिन 54 जिलों की बात कर रहा हूं, इसमें मल्लापुरम के आसपास के 15 जिले, बंगाल के 9, असम के 12, बिहार के 4 और यूपी के कुछ जिले शामिल हैं। जबकि पाकिस्तान में आजादी के बाद हिंदू गए थे, जिनकी संख्या अप्रत्याशित रूप से घट गई है। या तो धर्म परिवर्तन हो गया या वे पाकिस्तान छोड़कर चले गए।

उन्होंने कहा है कि क्यों न भारत में एक कानून बनना चाहिए, जो हिन्दू ,मुसलमान, ईसाई सभी पर लागू हों। उन्होंने कहाकि मेरे गांव की मस्जिद में मंदिर से भी ज्यादा आवाज आती है कि खुदा नींद की गोली भी खाकर सोया हो तो भी उठ जाए।

कांग्रेसियों का राष्ट्रवाद जेएनयू में दिखता है…

गिरिराज सिंह यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता को अंडबार निकोबार जाना चाहिए। वीर सावरकर को कोठरी में बंद रखा गया। भारत के इतिहासकारों ने वीर सावरकर को पीछे धकेल दिया। और कई लोगो को आगे ला दिया।

– सिंह ने कहा, इस्लाम मे राष्ट्रवाद की कल्पना न के बराबर है। कांग्रेसियो का राष्ट्रवाद भी अलग है। उनका राष्ट्रवाद जेएनयू में दिखता है। फारुख अब्दुल्ला खाते यहां की है और गाते पाकिस्तान की हैं। वह सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठा रहे हैं। भारत का राष्ट्रवाद इन कठमुल्लों के कारण कम नही हो सकता।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *