पद्मावत विवाद: करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने सिनेमा हॉल में की तोड़फोड़, कहा रिलीज नहीं होंने देंगे पद्मावत

नई दिल्ली/ सुप्रीम कोर्ट ने विवादित फिल्म पद्मावत की 25 जनवरी को देश भर में रिलीज का रास्ता साफ कर दिया। शीर्ष न्यायालय ने राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा और गुजरात की ओर से इन राज्यों में फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाने वाली अधिसूचनाओं और आदेशों पर गुरुवार को रोक लगा दी। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से नाराज करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने बिहार में मुजफ्फरपुर के एक सिनेमा हॉल में तोड़फोड़ की। प्रदर्शनकारियों ने पोस्टर तक फाड़ डाले।

राजपूत करणी सेना के चीफ लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा, ‘पूरे देश के सामाजिक संगठनों से अपील करूंगा कि पद्मावत चलनी नहीं चाहिए।’

राजपूत संगठनों का कहना है कि वे अपने फैसले पर अडिग हैं तथा कानून व्यवस्था संभालने का जिम्मा सरकार का है।

‘पद्मावत फिल्म की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण और निर्देशक संजयलीला भंसाली का सर कलम करने के वास्ते कथित रुप से 10 करोड़ रुपये के इनाम की घोषणा करने वाले राजपूत नेता सूरज पाल अमू ने कहा कि वह शांतिपूर्ण तरीके से फिल्म का विरोध जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए मुझे यदि फांसी पर चढ़ा दिया जाता है तो भी मुझे कोई दिक्कत नहीं है।

फैसले का अध्ययन और विधि विशेषज्ञों से विचार विमर्श करेंगे: राज्स्थान के गृहमंत्री
राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा है कि फिल्म पद्मावत पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का अध्ययन करने और विधि विशेषज्ञों से विचार विमर्श के बाद ही राज्य सरकार कोई कदम उठाएगी। गृहमंत्री ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि सरकार शीर्ष न्यायालय के निर्णय का सम्मान करती है । निर्णय की प्रति मिलने के बाद सरकार उसका अध्ययन करेगी और विधि​ विशेषज्ञों से विचार विमर्श के बाद कदम उठाना होगा तो उठाएंगे। यदि विधि विशेषज्ञ आगे बढ़ने की राय देंगे तो आगे बढेंगे।

आदेश की समीक्षा के बाद आगे का फैसला: मध्यप्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह
उच्चतम न्यायालय के संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ को सभी प्रदेशों में प्रदर्शित करने के आदेश देने के बाद मध्यप्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार आदेश की समीक्षा के बाद कोई फैसला करेगी। सिंह ने कहा कि सरकार अभी अदालत के इस आदेश की समीक्षा करेगी और उसके मुताबिक आगे का फैसला किया जाएगा। वहीं बीजेपी की मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि सरकार इस संबंध में कानूनी पक्ष देखने के बाद फैसला करेगी।

यह फिल्म 13वीं सदी में दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी और मेवाड़ के महाराजा रतन सिंह के बीच हुए युद्ध पर आधारित है। फिल्म में दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह मुख्य भूमिकाओं में हैं।

पिछले साल जयपुर और कोल्हापुर में जब फिल्म की शूटिंग चल रही थी तब करणी सेना के कथित सदस्यों ने इसके सेट पर तोड़फोड़ तथा इसके निर्देशक संजय लीला भंसाली के साथ धक्कामुक्की की थी।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *