क्या 2019 में राहुल गांधी मोदी को हरा पाएंगे ?

नई दिल्ली: अपने बहरीन के दौरे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय मूल के लोगों को संबोधित किया. ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पीपल ऑफ इंडियन ओरिजिन इवेंट के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि भारत को दो बातों का खतरा है. पहला खतरा बेरोजगारी और दूसरा विभाजनकारी ताकत है.

राहुल गांधी ने नफरत और विभाजनकारी ताकतों को देश के लिए खतरा बताया. उन्होंने कहा कि देश में रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य पर चर्चा नहीं होती. इस पर होती है क्या खाते हैं, क्या बोलते हैं? उन्होंने कहा, ”पत्रकार मारे जाते हैं..दलितों पर अत्याचार होता है..जज संदिग्ध हालत में मृत पाए जाते हैं.” उन्होंने कहा, ”हम नई कांग्रेस बना रहे हैं और बीजेपी को हराना बड़ी बात नहीं है.”

भारतीय मूल के लोगों के कार्यक्रम में शामिल होने बहरीन पहुंचे राहुल 2019 में कांग्रेस की जीत का दावा तो करते हैं लगे हाथों बीजेपी पर ये आरोप लगाने से भी नहीं चूकते कि बीजेपी समाज में नफरत भर रही है. बीजेपी पलटवार करते हुए बोली कि नफरत फैलाने का काम कांग्रेस करती है. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा तो ये भी कह रहे हैं कि राहुल गांधी देश के फेल हो चुके नेताओं में शामिल हैं.

जहां तक हार जीत के आंकड़ों का सवाल है तो

– लोकसभा में कांग्रेस के महज 44 सांसद हैं
– राज्यसभा में भी कांग्रेस अब सबसे बड़ी पार्टी नहीं रह गई है
– राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस गुजरात-हिमाचल हारी है
– हिमाचल में तो पार्टी ने अपनी सरकार गंवा दी है
– देश में महज 5 राज्यों में कांग्रेस सिमट कर रह गई है

कर्नाटक एक मात्र बड़ा राज्य है जहां कांग्रेस की सरकार है. लेकिन मई जून में यहां भी वोटिंग होनी है. वैसे राहुल गांधी को यहां भी वापसी की उम्मीद है. इस साल यानी 8 राज्यों में विधानसभा के चुनाव होने हैं. इसी में राहुल गांधी के नेतृत्व की असली परीक्षा है. राहुल पास हुए तो 2019 में प्रदर्शन 2014 की तुलना में बेहतर होने की उम्मीद की जा सकती है.

गुजरात के नतीजों के बाद कांग्रेस को लग रहा है कि वो वापसी कर सकती है. लेकिन जिस रफ्तार से कांग्रेस अभी बढ़ रही है उससे तो यही लगता है कि 2019 के लिए मोदी का मैदान अभी साफ है और दूर दूर तक कांग्रेस नहीं है.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *